Page Nav

HIDE

Gradient Skin

Gradient_Skin

Breaking News

latest

गूगल ने खोली पोल, चुपके- चुपके क्‍या खोज रहे बनारस के लोग ?...

वाराणसी। खबर आपको चौंकाती ही नहीं है बल्कि आपको सजग भी करती है कि आखिर बनारस में क्‍या सब कुछ सही चल रहा है? सवाल वाजिब ही नहीं बल्कि आपको ...





वाराणसी। खबर आपको चौंकाती ही नहीं है बल्कि आपको सजग भी करती है कि आखिर बनारस में क्‍या सब कुछ सही चल रहा है? सवाल वाजिब ही नहीं बल्कि आपको चौंकाने भी जा रहा है। बनारस में वीकेंड पर जो कुछ भी हो रहा है उसमें गैर सामाजिक कृत्‍य और दूषित मानसिकता को गूगल के आंकड़ों ने उजागर कर दिया है। आंकड़ों को देखकर आप चौंक जाएंगे कि बनारस में वीकेंड पर बनारस में 'काल गर्ल' की तलाश अधिक हो रही है। इस शब्‍द की तलाश का आलम यह है कि शनिवार की दोपहर गूगल खोज विकल्‍प में वाराणसी में यह पहले नंबर पर ट्रेंड में आ गया। 
गूगल की ओर से हर दिन लगातार बनारस के क्षेत्र में गूगल में खोजे जाने वाले शब्‍दों की रिपोर्ट गूगल ट्रेंड में लगातार अपडेट होती रहती है। मगर गूगल का यह आंकड़ा वीकेंड में जो खोजने वाला शब्‍द देता है वह वाराणसी के छवि से न्‍याय करता प्रतीत नहीं होता है। अमूमन हर शनिवार को वाराणसी में गूगल में लोग 'काल गर्ल इन वाराणसी' या 'वाराणसी क गर्ल' जैसे शब्‍द खोजते हैं। गूगल खोज विकल्‍पों में सबसे शॉकिंग रिपोर्ट यह रही कि शनिवार को यह गूगल में दोपहर एक से दो बजे तक सर्वाधिक खोजा जाने वाला यह शब्‍द बन गया। मतलब कि यह शब्‍द गूगल सर्च में वाराणसी में नंबर एक पर आ गया। वहीं खोज परिणामों में स्‍पा और मसाज सेंटर की रिपोर्ट भी सामने आती है। पूर्व में ऐसे केंद्रों में अनैतिक कार्य किए जाने की खबरें भी सामने आती रही हैं। 
वाराणसी में दोपहर तीन बजे तक दो सौ से अधिक लोगों ने गूगल में यह शब्‍द खोजा है। इसकी रिपोर्ट भी गूगज ट्रेंड की ओर से जारी की गई है। जारी आंकडे बताते हैं कि शनिवार की सुबह नौ बजे से दस बजे तक शुरू हुई यह खोज दोपहर एक बजे तक कई बार खोजा गया। सुबह 11 बजे 88 लोगों ने खोजा तो दोपहर दो बजे यह आंकड़ा सौ के करीब जा पहुंचा। इसका अर्थ यही है कि दिन चढ़ने के बाद गूगल में इस आपत्तिजनक अनैतिक कार्य का हिस्‍सा बनने के लिए करीब दो सौ से अधिक लोग उत्‍सुक थे। गूगल में दोपहर में यह अनैतिक कार्य से जुड़ा शब्‍द खोजने वालों की तादात बढ़ने की वजह से गूगल ट्रेंड में ब्रेकआउट होने लगा।

गूगल में आपत्तिजनक कारोबार के बारे में खोजने वालों का लगातार बढ़ता हुआ आंकड़ा बता रहा है कि धर्मनगरी काशी में कुछ गड़बड़ जरूर है। क्‍योंकि गूगल की यह तलाश की रिपोर्ट शनिवार यानी वीकेंड को अधिक बढ़ती है। ऐसे में यह भी माना जा रहा है कि वीकेंड मनाने बाहर से आने वाले लोग भी इस शब्‍द को खूब खोज रहे होंगे। वहीं गूगल भी इस शब्‍द के खोज के बाद शीर्ष के पांचवें खोज विकल्‍प में स्‍पा इन वाराणसी सुझा रहा है। पूर्व में भी अनैतिक कार्य ऐसे केंद्रों पर होने की तमाम शिकायतें मिलती रही हैं। 

नहीं है नियंत्रण : वाराणसी में पूर्व में देह व्‍यापार के तमाम मामले उजागर होते रहे हैं। मगर, उनकी जड़ों पर कभी वार न होने से छूटकर आने वाले दोबारा इसी कारोबार में कई बार लिप्‍त पाए गए हैं। ऐसे में धर्म नगरी में आने वालों के लिए दलाल बेहतर आफर के जरिए यह कारोबार लगातार फैला रहे हैं। दरअसल, यहां की पुलिस के पास यह जानने का कोई तरीका नहीं है कि कौन व्‍यक्ति हैं जो यह शब्‍द गूगल पर खोज रहे हैं। बीते दिनों एडीजी के ट्वीटर हैंडल को हैक होने के बाद बड़ी मुश्किल से एकाउंट रिकवर होने से साफ है कि पुलिस के भी हाथ आनलाइन अवैध कृत्‍य को लेकर कितने बंधे हुए हैं।